A network-related or instance-specific error occurred while establishing a connection to SQL Server. The server was not found or was not accessible. Verify that the instance name is correct and that SQL Server is configured to allow remote connections. (provider: Named Pipes Provider, error: 40 - Could not open a connection to SQL Server) फिक्स्ड डिपॉज़िट - महिन्द्रा फाइनेंस से फिक्स्ड डिपॉज़िट आकर्षक ब्याज दर पर
लॉगिन चुनें
उत्पाद के प्रकार चुनिये

फिक्स्ड डिपॉज़िट - उत्पाद विवरण

आप यहाँ हैं :


For Group Secure - Policy Terms & Conditions - Click Here


इन अनिश्चित समय में, अपने मेहनत से जोड़े हुए धन पर बिना जोखिम उठाये अधिक से अधिक लाभ उठाइये। हमारे फिक्सड डिपॉज़िट स्कीम्स आपको अत्यधिक प्रतिस्पर्धी ब्याज दरों देते हैं और आपके धन की उत्तरोत्तर वृद्धी में मदद करते हैं।

  • विशेषताएं व लाभ
  • योग्यता व दस्तावेजीकरण
  • एफएक्यू
  • एमएमएफएसएल फिक्स्ड डिपॉज़िट की "एफएएए' की क्राइसिल रेटिंग है ताकी आपको निवेश को मिले उच्च स्तर की सुरक्षा
  • संचयी व गैर-संचयी विकल्प, दोनों उपलब्ध
  • वरिष्ठ नागरिकों के लिए 0.25 % का अतिरिक्त ब्याज दर / महिन्द्रा ग्रुप की कम्पनियों के कर्मचारियों को 0.35% का अतिरिक्त ब्याज दर
निवासी व्यक्तियों के लिए

निवासी व्यक्तियों के लिए


निम्नलिखत दस्तावेजों को पहचान का प्रमाण माना जायेगा:

  • पासपोर्ट,
  • ड्राइविंग लाइसेंस,
  • पर्मानेन्ट अकाउन्ट नंबर (पैन) कार्ड,
  • भारतीय निर्वाचन आयोग द्वारा जारी मतदाता पहचान पत्र,
  • नरेगा द्वारा जारी जॉब कार्ड जिस पर राज्य सरकार के अधिकारी के हस्ताक्षर हों भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण द्वारा जारी पत्र जिसमें नाम, पता और आधार संख्या का विवरण हो, या केन्द्रीय सरकार द्वारा रेग्युलेटर के परामर्श से अधिसूचित कोई अन्य कागजात

कम्पनियों के लिए:

  • कम्पनी का नाम
  • बिजनेस का मुख्य स्थान
  • कम्पनी का मेलिंग पता
  • टेलीफोन/फैक्स नम्बर

अनिवासी भारतीयों (एनआरआई) से डिपॉज़िट की स्वीकृति

हम गैर-प्रत्यावर्तित आधार पर एनआरआई से डिपॉज़िट स्वीकार करते हैं।

एनआरआई डिपॉज़िट के संचालन के लिए नियम व शर्तें नीचे दिये गये हैं।

  • डिपॉज़िट की स्वीकृति सिर्फ चेन्नैई में देय एनआरओ अकाउंट के जरिये भारतीय रुपयों में की जा सकती है।
    • ए. एनआरआई डिपॉज़िट की स्वीकृति तभी होगी जब भुगतान भारत में जमाकर्ता के एनआरओ खाते से किया जायेगा। एनआरआई डिपॉज़िट को एनआरबी या एफसीएनआर(बी) खातों से स्थानांतरित कोष से स्वीकृति नहीं होगी।
    • बी. एनआरआई डिपॉज़िट विदेश से किये गये किसी इन्वार्ड प्रेषण के जरिये स्वीकृत नहीं किया जायेगा।
    • सी. एनआरआई डिपॉज़िटर को निम्नलिखित घोषणाएं करनी होंगी:
      महिन्द्रा एंड महिन्द्रा फायनांशियल सर्विसेज़ लि. के साथ जमा की गई राशि एनआरओ अकाउंट से स्थानांतरित राशि का प्रदर्शित करती है। इसके अतिरिक्त यह राशि विदेशों से एनआरओ अकाउंट में इन्वार्ड प्रेषण को या एनआई/एफसीएनआर(बी) अकाउंट से एनआरओ अकाउंट में कोष के स्थानांतरण का प्रदर्षित नहीं करती है।
  • डिपॉज़िटर को ऍपेंडिक्स -1 की तरह ही एक अंडरटेकिंग देनी होगी।
  • डिपॉज़िटर को अपना एनआरओ बैंक अकाउंट नं. देना होगा क्योंकि मूल व ब्याज सिर्फ एनआरओ बैंक खाते में ही क्रेडिट किया जायेगा।
  • समय समय पर प्रचलित आयकर कानून द्वारा निर्धारित दर के हिसाब से ब्याज राशि से टैक्स वसूला जायेगा, ब्याज की राशि चाहे जो भी हो।
  • टैक्स के नॉन-डिडक्शन के लिए स्व-घोषणा की प्रक्रिया एनआरआई डिपॉज़िट्स पर लागू नहीं होती है। यदि डिपॉज़िटर भारत में आयकर द्वारा मूल्यांकन के दायरे में नहीं आता है, तो उस आशय का एक छूट प्रमाणपत्र चेन्नै, बंगालुरू, कोलकाता, हैदराबाद, नई दिल्ली स्थित विकेन्द्रीकृत आयकर कार्यालय से या आई.टी.ओ. (एनआरआई सर्कल), न्यू मरीन लाइन्स, मुम्बई 400 026 से प्राप्त कर हमें दिया जा सकता है ताकि सोर्स पर कोई आयकर काटा नहीं जाये।
  • यदि डिपॉज़िटर ऐसे किसी देश का निवासी है जो डबल टैक्स अवॉयडेंस ऍग्रीमेंट (डीटीएए) के आवरण के तहत आता है, तो हम उस देश के लिए जिसमें डिपॉज़िटर रहता है, डीटीएए में निर्धारित दर के अनुसार टैक्स काट सकते हैं। डीटीएए में निर्धारित दर से सोर्स पर टैक्स काटने के लिए, डिपॉज़िटर को ऍपेंडिक्स-2 में दिये डीटीएए फॉर्म पर हस्ताक्षर कर उसे हमें भेज देना चाहिए।
  • डिपॉज़िटर से अनुरोध किया जाता है कि वे अपने भारतीय व विदेशी पते का विवरण प्रस्तुत करें।
  • एनआरई डिपॉज़िट के विरुद्ध किसी प्रकार के लोन की अनुमति नहीं दी जायेगी।

पार्टनरशिप फर्म के लिए

  • कानूनी नाम
  • पता
  • सभी भागीदारों के नाम व उनके पते
  • फर्म और भागीदारों के टेलीफोन नम्बर

ट्रस्ट व फाउंडेशन के लिए

  • ट्रस्टी, सेटलर्स, लाभकर्ताओं और हस्ताक्षरकर्ताओं के नाम
  • संस्थापक, प्रबंधकों/निदेशकों और लाभकर्ताओं के नाम
  • टेलीफोन/फैक्स नम्बर

कृपया नोट करें कि हम सिर्फ पंजीकृत ट्रस्ट से ही डिपॉज़िट स्वीकार करते हैं और हमारे निवेश आयकर की धारा 11(5) के तहत योग्य नहीं हैं।

रु. 1 करोड़ और इससे अधिक के निवेश के लिए आय के स्रोत के बारे में घोषणा करनी होगी.

विस्तार करें संकुचित करें

डिपॉजिट्स की कौन सी स्कीमें उपलब्ध हैं?

डिपॉजिट्स के लिए क्युमुलेटिव तथा नॉन क्युमुलेटिव स्कीमें उपलब्ध हैं

नॉन क्युमुलेटिव डिपॉजिट और क्युमुलेटिव डिपॉजिट के बीच क्या अंतर है?

‘नॉन क्युमुलेटिव स्कीम’ में अर्ध-वार्षिक आधार पर ब्याज देय होता है. स्कीम पेंशनर्स के लिए सुविधाजनक होगी. जिन्हें आवधिक रूप से ब्याज भुगतान की जरूरत होती है. ‘क्युमुलेटिव डिपॉजिट स्कीम’ में ब्याज परिपक्वता के समय मूलधन के साथ देय होता है. यह स्कीम उनके लिए सुविधाजनक होती है जिन्हें आवधिक रूप से ब्याज भुगतान की ज़रूरत नहीं होती है और इसे मनी मल्टीप्लायर स्कीम माना जा सकता है.

क्युमुलेटिव और नॉन क्युमुलेटिव डिपॉजिट स्कीमों के लिए न्यूनतम जमा राशि क्या है?

क्युमुलेटिव डिपॉजिट स्कीम के लिए न्यूनतम जमा राशि रू.5,000/- और नॉन क्युमुलेटिव स्कीम के तहत रू.25,000/- अर्ध-वार्षिक और रू.50,000/- त्रैमासिक है.

मैं फिक्स्ड डिपॉजिट के लिए राशि कैसे दूँ?

राशि एमएमएफएसएल-फिक्स्ड डिपॉजिट के पक्ष में जारी चेक/डीडी के माध्यम से दी जा सकती है और उसे एचडीएफसी बैंक और कोटक महिंद्रा बैंक कलेक्शन सेंटर में जमा कराया जा सकता है. या फिर जमाकर्ता देय डीडी को मुंबई के कॉर्पोरेट कार्यालय में भेज सकता है.

क्या फिक्स्ड डिपॉजिट करने के लिए कोई निर्धारित प्रारूप है?

हाँ, फिक्स्ड डिपॉजिट के लिए आवेदन निर्धारित प्रारूप में किया जाना चाहिए.

यदि अल्प वयस्क के माता पिता जीवित नहीं हैं तो किसे पालक माना जाना चाहिए?

केवल सक्षम न्यायालय द्वारा पालक के रूप में नियुक्‍त व्यक्‍ति ही आवेदन पर हस्ताक्षर कर सकता है. न्यायालय के आदेश की एक प्रति हमारे पास जमा कराई जानी चाहिए.

क्या अकेले अल्पवयस्क के नाम पर फिक्स्ड डिपॉजिट किया जा सकता है?

हाँ. आप अल्पवयस्क के नाम पर धन जमा करा सकते हैं. बशर्ते उस अल्पवयस्क का प्रतिनिधित्व उसके प्राकृतिक या विधिक पालक द्वारा किया जाता हो तथा डिपॉजिट के लिए आवेदन फॉर्म प्राकृतिक/विधिक पालक द्वारा अल्पवयस्क की ओर से हस्ताक्षरित किया जाता है. डिपॉजिट के संबंध में सारा पत्राचार पालक को संबोधित किया जाएगा.

क्या पावर ऑफ अटॉर्नी (पीओए) धारक फिक्स्ड डिपॉजिट के आवेदन पत्र पर हस्ताक्षर कर सकता है?

हाँ. पावर ऑफ अटॉर्नी की एक प्रति लेकर उसे डिपॉजिटर द्वारा हस्ताक्षरित किया जाना चाहिए.

क्या वरिष्‍ठ नागरिकों के लिए कोई अतिरिक्‍त ब्याज दर है?

हाँ, वरिष्‍ठ नागरिकों को 0.25% प्रति वर्ष की अतिरिक्‍त दर मिलेगी.

क्या जॉइंट अकाउंट रखा जा सकता है?

हाँ, अधिकतम तीन लोग जॉइंट अकाउंट रख सकते हैं जो ‘‘किसी एक या जीवित ’’ को देय होगा या किसी को नहीं. कोई भी या सर्वाइवर (ए या एस)- परिपक्वता पर, डिपॉजिट रसीद को किसी भी डिपॉजिटर द्वारा अदा कराया जा सकता है. फिर भी समय पूर्व भुगतान और लोन के लिए सभी डिपॉजिटर्स को हस्ताक्षर करना चाहिए.

मैं अपने पत्राचार का पता और अन्य निजी विवरणों को कैसे बदलूँ?

आपको चेन्नई के एफडी प्रोसेसिंग सेंटर को इसके प्रमाण सहित लिखित आवेदन भेजना चाहिए. प्राप्‍ति पर विवरणों को 7 कार्य दिनों के अंदर अद्यतनीकृत किया जाएगा.

यदि ट्रस्ट पंजीकृत नहीं है या भविष्य में पंजीकृत नहीं कराने का इच्छुक है तो यह उल्लेख करते हुए प्राधिकृत हस्ताक्षरियों द्वारा हस्ताक्षरित पत्र आवश्यक होगा कि ट्रस्ट पंजीकृत नहीं है और भविष्य में पंजीकृत कराने के लिए इच्छुक नहीं है.

कृपया ध्यान दें कि महिंद्रा एंड महिंद्रा फायनांस सर्विसेस आयकर कानून की धारा 11(5) के तहत पंजीकृत नहीं है, इसीलिए चैरिटेबल ट्रस्ट अपने खुद के जोखिम पर महिंद्रा फायनांस एफडी में निवेश कर सकते हैं.

क्या कोई ट्रस्ट एफडी में निवेश कर सकता है?

हाँ, ट्रस्ट महिंद्रा फायनांस एफडी में निवेश कर सकता है.

क्या कोई कंपनी एफडी में निवेश कर सकती है?

हाँ. कंपनी एफडी में निवेश कर सकती है.

क्या डिपॉजिट्स के लिए कोई ब्रोकरेज/इंसेंटिव है?

नहीं. डिपॉजिट्स के लिए कोई ब्रोकरेज/इंसेंटिव नहीं है.

क्या आप डिपॉजिट्स पर मासिक ब्याज देते हैं?

नहीं. ब्याज केवल त्रैमासिक और अर्ध वार्षिक आधार पर देय हैं.

ब्याज किन माध्यमों से अदा किया जाता है?

ब्याज को ईसीएस के ज़रिए सीधे बैंक खाते में जमा करा दिया जाता है.

इंटरेस्ट वॉरंट्स किस बैंक से बनाए जाते हैं?

सभी इंटरेस्ट वॉरंट्स एचडीएफसी बैंक मुंबई से बनाए जाते हैं जो बिना किसी शुल्क के भारत में सभी एचडीएफसी शाखाओं पर सम मूल्य पर देय होते  हैं.

क्या आप दूसरे डिपॉजिटर के पक्ष में इंटरेस्ट वॉरंट भेज सकते हैं?

नहीं. इंटरेस्ट वॉरंट केवल पहले डिपॉजिटर को अदा किया जाएगा. Further for more clarifications on Death/POA cases (with/without) you may please contact us on 022-66526000 or email on mfinfd@mahindra.com

ब्याज को नॉन क्युमुलेटिव स्कीम में कब जमा किया जाएगा?

ब्याज को एफडी अवधि के दौरान हर वित्त वर्ष के 30 जून, 30 सितंबर, 31 दिसंबर और 31 मार्च को नॉन क्युमुलेटिव स्कीम में जमा कर दिया जाएगा.

यदि विद्यमान ब्याज दरें घट जाती हैं तो क्या होता है?

कोई बदलाव नहीं होगा क्योंकि हम वर्तमान नियमों के अनुसार उसकी परिपक्वता तक अनुबंधित दर अदा करने के लिए बाध्य हैं.

यदि अनुबंधित ब्याज दर ऊपर जाती है तो क्या होता है?

इसका फैसला भारतीय रिजर्व बैंक पर निर्भर है. यदि भारतीय रिज़र्व बैंक को निश्चित विश्वास है कि बढ़ोतरी का एक विशिष्‍ट समय से आशादायी प्रभाव पड़ना चाहिए तो इसे तुरंत नहीं किया जा सकता. संशोधित दरें केवल नए डिपॉजिट्स और रिन्यूअल्स पर लागू होंगी. तथापि, संशोधन का लाभ ‘प्रीमैच्योर रिन्यूअल’ की प्रक्रिया द्वारा मौजूदा जमाकर्ताओं को अंतरित कर दिया जाएगा.

ब्याज से स्रोत पर आयकर कटौती कब की जाती है?

यदि डिपॉजिट पर अनुमानित अदा/जमा किया गया ब्याज या संभावित जमा/अदा किया जाने वाला ब्याज वित्त वर्ष के दौरान रू.5000/- से अधिक हो जाता है या होने की संभावना है तो कर काटने वाले के लिए स्रोत पर आयकर काटना बाध्यकारी हो जाता है. तथापि, ऐसी कर कटौती को टालने के लिए निवेशक फॉर्म 15 जी/एच में स्वयं-घोषणा जमा कर सकते हैं या हर वित्त वर्ष के लिए संबंधित आयकर प्राधिकरण से छूट का प्रमाणपत्र जमा करा सकते हैं.

फॉर्म 15जी और फॉर्म 15एच क्या है और मुझे यह कहाँ से मिलेगा?

फॉर्म 15जी/15एच डिपॉजिटर द्वारा की जाने वाली एक स्वयं घोषणा है जो कंपनी से प्राप्‍त किया जा सकता है या कंपनी की वेबसाइट से भी डाउनलोड किया जा सकता है. स्वयं घोषणा के लिए किसी के प्रमाणन की ज़रूरत नहीं होती जिसमें बाएँ हाथ के अंगूठे का निशान अपवाद है जिसे गजेट ऑफिसर/बैंक अधिकारी द्वारा प्रमाणित किया जाना चाहिए. चूँकि हमारी फाइल में एक प्रति रखी जानी चाहिए और एक प्रति आईटी विभाग में भेजी जानी चाहिए, इसीलिए इसे तिहरी प्रति में जमा कराना चाहिए.

हम वित्त वर्ष के लिए मार्च में मौजूदा डिपॉजिटर्स को प्रिप्रिंटेड फॉर्म 15जी/15एच घोषणा भेजेंगे और डिपॉजिटर्स को इसे भरकर और हस्ताक्षर करके दोहरी प्रति में लौटा देना चाहिए. फॉर्म 15जी/15एच पूरे वित्त वर्ष के लिए देय अनुमानित ब्याज के आधार पर डिपॉजिटर को भेजा जाता है.

फॉर्म 15जी और फॉर्म 15एच में क्या अंतर है?

फॉर्म 15जी में व्यक्‍ति या ऐसे व्यक्‍ति (जो कंपनी या फर्म न हो) द्वारा घोषणा की जा सकती है. इसीलिए,  कोई कंपनी या फर्म फॉर्म 15जी या फॉर्म 15 एच में घोषणा जमा नहीं करा सकती. फॉर्म 15जी निवासी व्यक्‍ति के लिए होता है जिसकी उम्र 60 वर्ष से कम है. 15एच ऐसे व्यक्‍तियों के लिए है जो वरिष्‍ठ नागरिक हैं यानी ऐसे व्यक्‍ति जिनकी आयु वित्त वर्ष के दौरान 60 वर्ष या अधिक है.

व्यक्‍तियों के मामले में 15जी/एच के लिए पात्रता :-
फॉर्म 15जी:
- घोषणा जमा करते समय व्यक्ति की उम्र 60 वर्ष से कम होनी चाहिए.
- वित्त वर्ष (यानी वर्ष 2016-17) के दौरान कुल आय आयकर के अनुसार आधारभूत छूट सीमा यानी रू.2,50,000/-  से अधिक नहीं होनी. यदि वित्त वर्ष के दौरान कुल आय रू.2,50,000/- से अधिक हो जाती है या बढने की संभावना है तो व्यक्ति फॉर्म 15जी जमा नहीं कर सकता.

फॉर्म 15एच:

  • यदि व्यक्‍ति की उम्र 60 वर्ष है लेकिन 80 वर्ष से कम है तो वित्त वर्ष (यानी वर्ष 2016-17) के दौरान आयकर के अनुसार कुल आय मूल रियायत सीमा से अधिक यानी रू.3,00,000/- से अधिक नहीं होनी चाहिए.
  • यदि व्यक्‍ति की उम्र 80 वर्ष या अधिक है तो वित्त वर्ष (यानी वर्ष 2016-17) के दौरान आयकर के अनुसार कुल आय मूल रियायत सीमा से अधिक यानी रू.500,000 से अधिक नहीं होनी चाहिए.

व्यक्‍ति के अलावा अन्य के मामले में 15जी के लिए पात्रता:

यदि वित्त वर्ष (यानी वर्ष 2016-17) के दौरान कुल आय आयकर के अनुसार आधारभूत छूट सीमा यानी रू.2,00,000  से अधिक नहीं होती है , यदि वित्त वर्ष के दौरान कुल आय रू.2,00,000 से अधिक हो जाती है या बढ़ने की संभावना है तो व्यक्‍ति फॉर्म 15जी जमा नहीं कर सकता. 15जी एचयूएफ, असोसिएशन ऑफ पर्सन्स, व्यक्‍तियों के निकाय और कृत्रिम न्यायिक व्यक्‍तियों द्वारा जमा कराया जा सकता है,

क्या डिपॉजिट रखते समय केवल एक बार फॉर्म जमा करना काफी नहीं है?

हाँ. फॉर्म 15जी/एच हर वित्त वर्ष के आरंभ में जमा कराना होगा जिसमें सभी मौजूदा डिपॉजिट्स शामिल होंगे और यदि डिपॉजिट वर्ष के दौरान किया गया है तो नया फॉर्म जमा कराया जाना चाहिए. तथापि, यदि कर कानूनों में कोई बदलाव होते हैं तो नया फॉर्म 15जी/एच जमा कराना होगा.

आपको स्रोत पर कर कटौती के लिए किस प्रकार का प्रमाणपत्र मिलता है और प्रमाणपत्र कैसे निर्मित किया जाता है?

स्रोत पर कटौती के लिए, सरकार को अंतरित ब्याज के विवरण देते हुए निर्धारित फार्म 16ए में कर कटौती प्रमाणपत्र यदि फिक्स्ड डिपॉजिट त्रैमासिक स्कीम के तहत है तो त्रैमासिक आधार पर भेजे जाएंगे, अर्ध वार्षिक स्कीम के तहत डिपाजिट के लिए अर्ध वार्षिक आधार और क्युमुलेटिव डिपॉजिट्स के मामले में वर्ष के अंत में भेजे जाएंगे. फॉर्म नं. 16ए में टीडीएस सर्टिफिकेट त्रैमासिक आधार पर बनाए जाते हैं जो टीआईएन (टैक्स इन्फॉर्मेशन नेटवर्क) में कर कटौती करने वाले द्वारा भरे गए त्रैमासिक टीडीएस स्टेटमेंट में दिए गए विवरणों पर आधारित होते हैं. 01.04.2011 को या बाद में की गई स्रोत पर कर कटौती के लिए टीआईएन सेंट्रल सिस्टम के ज़रिए कंपनी द्वारा निर्मित फॉर्म 16ए में टीडीएस सर्टिफिकेट निर्मित किया जाएगा और जिसे विशेष टीडीएस सर्टिफिकेट नंबर के साथ टीआईएन वेबसाइट से डाउनलोड किया जा सकता है तथा उसे डिजिटल सिग्नेचर का उपयोग करते हुए प्रमाणित किया जाएगा.

वेतनभोगी व्यक्‍ति के मामले में यदि आयकर वेतन से काट लिया जाता है तो क्या वह 15जी/15एच जमा कर सकता/सकती है?

नहीं. चूँकि वह एक असेसी है इसीलिए फॉर्म 15जी/15एच जमा नहीं कराया जा सकता.

क्या आप नामों के उसी क्रम में एक से ज़्यादा खाता खोल सकते हैं?

नहीं, एक ही नाम या नामों के उसी क्रम (संयुक्‍त खाता धारक के मामले में) में धारित सभी डिपॉजिट्स को आयकर की गणना के प्रयोजन से एक साथ जोड़ने की ज़रूरत होती है.

यदि धन की तत्काल ज़रूरत है तो क्या डिपॉजिट्स से निकासी की जा सकती है?

आरबीआई के निर्देशों के अनुसार, डिपॉजिट/डिपॉजिट के रिन्यूअल के दिनांक से तीन माह के अंदर डिपॉजिट से कोई निकासी नहीं की जा सकती.

यदि कोई कर नहीं काटा जाता है तो भी क्या सर्टिफिकेट बनाया जाएगा?

हाँ. उन मामलों के लिए भी टीडीएस सर्टिफिकेट निर्मित किया जाएगा जहाँ कोई कर नहीं काटा गया है यदि निवेशक ने फॉर्म 15जी/एच जमा किया है या इनकम टैक्स एक्जेंपशन सर्टिफिकेट जमा कराया है.

टीडीएस सर्टिफिकेट पर कौन सा पता छपा होगा?

टीडीएस सर्टिफिकेट पर छपा पता पैन लिए आवेदन करते समय पैन कार्ड अधिकारियों के पास पंजीकृत पता होगा.

यदि पते में बदलाव हो तो क्या करें?

यदि पत्राचार का मौजूदा पता पैन कार्ड आवेदन के लिए दिए गए पते से अलग है तो कृपया एनएसडीएल या यूटीआईटीएसएल के जरिए पता बदलें.

टीडीएस सर्टिफिकेट कब भेजा जाएगा?

  • ति 1 - मई का अंतिम सप्‍ताह
  • ति 2 - अक्टूबर का अंतिम सप्‍ताह
  • ति 3 -जनवरी का अंतिम सप्‍ताह
  • ति 4 - मई का अंतिम सप्‍ताह

कंपनी द्वारा कर कटौती (टीडीएस) का क्रेडिट कैसे देखें?

आप एनएसडीएल वेबसाइट पर पंजीकरण करके एनएसडीएल वेबसाइट से (फॉर्म 26एएस में) टीडीएस जानकारी देख/पा सकते हैं, कृपया अधिक विवरणों के लिए https://incometaxindiaefilling.govt.in/portal/login.do साइट पर विज़िट करें.

परमानेंट अकाउंट नंबर जमा करने का महत्व क्या है?

आयकर के प्रावधान के अनुसार कोई राशि या आय, जिससे कर की कटौती की जाएगी, को पाने वाला व्यक्‍ति कर कटौती कर रहे व्यक्‍ति को अपना पैन देगा. कृपया ध्यान दें कि यदि पैन नहीं दिया जाता है तो जमा किया गया फॉर्म 15जी/एच और अन्य एक्जेंप्शन प्रमाणपत्र अवैध हो जाएंगे और कर यथा प्रयाजनीय उच्चतर दर पर काटा जाएगा.

पैन के नहीं होने पर एनएसहीएल वेबसाइट पर फॉर्म 26एएस में काटे गए कर की कोई क्रेडिट नहीं की जाएगी. साथ ही यदि पैन जमा नहीं किया जाता है तो कंपनी द्वारा काटे गए कर के लिए टीआईएन वेबसाइट से कोई टीडीएस सर्टिफिकेट निर्मित नहीं होगा.

क्या डिपॉजिट रखते समय केवल एक बार फॉर्म जमा करना काफी नहीं है?

नहीं. चूँकि आयकर कानून में बदलाव हो सकते हैं, इसीलिए फॉर्म 15जी/एच की ज़रूरत वित्त वर्ष के आरंभ में या डिपॉजिट के समय होती है, जहाँ लागू हो.

यदि धन की तत्काल ज़रूरत है तो क्या डिपॉजिट से निकासी की जा सकती है?

आरबीआई के निर्देश के अनुसार, डिपॉजिट/डिपॉजिट के रिन्यूअल के दिनांक से तीन महीने के अंदर डिपॉजिट्स से कोई निकासी नहीं की जा सकती.

क्या 3 माह बाद फिक्स्ड डिपॉजिट से निकासी की जा सकती है?

हाँ. भारतीय रिज़र्व बैंक के निर्देशों और कंपनी के नियमों और शर्तों के अनुसार डिपॉजिट/डिपॉजिट के रिन्यूअल के  दिनांक से तीन महीने के बाद समय पूर्व निकासी की जा सकती है.

क्या दूसरे/तीसरे डिपॉजिटर के पक्ष में समय पूर्व राशि अदा की जा सकती है?

नहीं. समय पूर्व भुगतान केवल पहले डिपॉजिटर को किया जाएगा.

क्या डिपॉजिट नकद में लौटाया जाएगा?

नहीं. डिपॉजिट केवल अद्यतनीकृत करेस्पाँडिंग बैंक खाते में लौटाया जाएगा.

क्या आप फिक्स्ड डिपॉजिटर के बैंक को सीधे भुगतान भेज सकते हैं?

हाँ. भुगतान उसके डिपॉजिटर को सूचित करने के बाद सीधे आपके बैंक को भेजा सकता है.

समय पूर्व निकासी लेने की क्या प्रक्रिया है?

त्रैमासिक ब्याज भुगतान गणना के चलते जून, सितंबर, दिसंबर और मार्च महीनों के दौरान 20 से आखिरी तारीख तक नॉन क्युमुलेटिव त्रैमासिक मामलों के लिए समय पूर्व निकासी की अनुमति नहीं होगी.

अर्ध-वार्षिक ब्याज भुगतान गणना के चलते सितंबर और मार्च महीनों के दौरान 20 से आखिरी तारीख तक नॉन क्युमुलेटिव त्रैमासिक मामलों के लिए समय पूर्व निकासी की अनुमति नहीं होगी.

इसके अलावा वार्षिक अकाउंटिंग क्लोजर के चलते हर वर्ष के मार्च 20 से 1 अप्रैल तक समय पूर्व निकासी की अनुमति नहीं होगी.

क्या आप डिपॉजिट पर लोन की अनुमति देंगे?

महिंद्रा फायनांस डिपॉजिट के प्रति डिपॉजिट राशि के 75% तक लोन दिया जा सकता है. लोन ऐसे किसी भी डिपॉजिटर को दिया जाएगा जिनका हमारी कंपनी में सक्रिय एफडी है जो कि 3 माह से अधिक पुराना है. एफडीआर को लोन जारी करने के प्रति जमानत के रूप में चिन्हित किया जाएगा. तथापि, लोन देना कंपनी की इच्छा के अधीन होगा. अल्प वयस्क और एनआरआई  द्वारा किए गए डिपॉजिट्स के प्रति कोईलोन नहीं दिया जाएगा.

लोन्स के लिए क्या ब्याज दर लिया जाता है?

एफडी निवेश की राशि क्युमुलेटिव आधार पर एफडी ब्याज दर के ऊपर 2% प्रति वर्ष (अर्ध वार्षिक पर)

यदि एकमात्र डिपॉजिटर की मृत्यु हो जाती है तो किन दस्तावेजों की ज़रूरत होती है?

मृत्यु प्रमाणपत्र , टर्म डिपॉजिट रसीद, वसीयत या इच्छापत्र, यदि हो, की सत्यापित प्रति या तहसीलदार/कॉर्पोरेशन द्वारा जारी कानूनी वारिस प्रमाणपत्र की सत्यापित प्रति.

क्या आप एनआरआई डिपॉजिट्स स्वीकार  करते हैं?

हम नॉन-रिपैट्रिएशन आधार पर एनआरआई से डिपॉजिट्स स्वीकार करते हैं. आरबीआई अधिसूचना ‘‘आरबीआई/2004/179 ए.पी (डीआईआर सिरीज) सर्कुलर नं. 89 दिनांक 24 अप्रैल 2014’’ के मामले में एनआरआई द्वारा अधिकृत डीलर्स/ अधिकृत बैंक के अलावा अन्य व्यक्‍ति के साथ एनआरओ खातों में डेबिट द्वारा जारी रह सकते हैं बशर्ते ऐसे निकायों में जमा की गई राशि एनआरओ खातों में इनवर्ड रेमिटेंस (आवक अंतरण) या एनआरई/एफसीएनआर (बी) से अंतरण को प्रदर्शित नहीं करता.

एनआरआई डिपॉजिट्स को शासित करने वाले नियम और शर्तें नीचे दिए गए हैं

एनआरओ अकाउंट के जरिए डिपॉजिट्स की स्वीकृति केवल भारतीय रूपयों द्वारा की जा सकती है.

एनआरआई डिपॉजिट्स केवल भारत में डिपॉजिटर के एनआरओ खाते से भुगतानों के जरिए स्वीकार किए जाएंगे.

एनआरई या एफसीएनआर (बी) खाते से अंतरित धनराशि के साथ डिपॉजिट्स को स्वीकार नहीं किया जाएगा.

विदेश से किसी इनवर्ड रेमिटेंस द्वारा एनआरआई डिपॉजिट्स को स्वीकार नहीं किया जाएगा.

एनआरआई डिपॉजिट्स के लिए निम्नलिखित घोषणा दी गई है:

महिंद्रा एंड महिंद्रा फायनांशियल सर्विसेस लिमिटेड के पास जमा की गई राशि एनआरओ अकाउंट से अंतरित राशि दर्शाती है. इसके अलावा यह राशि विदेश से एनआरओ खाते में इनवर्ड रेमिटेंस या एनआरई/एफसीएनआर (बी) खाते से एनआरओ खाते में अंतरण को नहीं दर्शता.

डिपॉजिटर को एनआरओ बैंक खाता नंबर देना चाहिए क्योंकि मूलधन और ब्याज दोनों को केवल एनआरओ बैंक खाते में जमा कराया जाना चाहिए.

ब्याज की राशि से समय समय पर लागू आयकर कानून द्वारा निर्धारित दरों पर की कटौती की जाएगी चाहे ब्याज का परिमाण जितना भी हो.

फिक्स्ड डिपॉजिट से संबंधित आयकर के प्रावधान :

एनआरआई डिपॉजिट्स के संदर्भ में टीडीएस

  • कर के प्रयोजन से ब्याज पर रू.5000 की सीमा लागू नहीं है.
  • कर की कटौती नहीं करने के लिए धारा 197 के तहत घोषणा लागू नहीं होगी. तथापि आयकर विभाग से प्राप्‍त कमतर कटौती का प्रमाण पत्र शून्य या कम दर पर कर के दावे के लिए दिया जा सकता है.
  • आयकर कानून 1961 की धारा 195 के प्रावधन के अनुसार कर की दर 30.9% होगी.
  • यदि उस देश के साथ डबल टैक्स अवॉइडेंस एग्रीमेंट (डीटीएए) मौजूद है जिस देश का निवेशक निवासी है तो लागू कर की दर डीटीएए दर या आयकर की दर में से कमतर होगी. फिर भी डीटीएए दर का दावा करने के लिए टैक्स रेसिडेंसी सर्टिफिकेट दिया जाना चाहिए. आयकर कानून के अनुसार टैक्स रेसिडेंसी सर्टिफिकेट नहीं देने के मामले में उच्चतर कर दर लागू होगी. इसके अलावा डीटीएए के अनुसार कमतर दर का दावा करने के लिए पैन की जरूरत भी होगी अन्यथा आयकर कानून के अनुसार कर दर 30.9% होगी.

डिपॉजिटर्स से अपने भारतीय और विदेश पते के विवरण देने का निवेदन किया जाता है. एनआरआई डिपॉजिट्स के प्रति कोई लोन लेने की अनुमति नहीं होगी.

क्या मैं ऑनलूइन आवेदन कर सकता हूँ?

हाँ, आप www.mahindrafinance.com पर लॉग ऑन करके ऑन लाइन निवेश कर सकते हैं.

मैं जमाराशि को कैसे रीन्यू यानी उसका नवीनीकरण करा सकता हूं?

आपको मैच्योरिटी (परिपक्वता) से 15 दिन पहले, एफडी प्रोसेस सेंटर को डिपॉजिट रिसिप्ट पर रसीदी टिकट लगाकर हस्ताक्षर करके नवीनीकरण आवेदन पत्र के साथ भेजना होगा.
मैच्योरिटी के 10 दिन बाद निवेशक को नवीनीकृत सर्टिफिकेट भेजा जाएगा. Further you can renew the deposit online by Clicking Here

नवीकरण के क्या विकल्प हैं?

मौजूदा एफडी निवेशक अपनी जमाराशि के मूलधन या पूरी मैच्योरिटी राशि का नवीनीकरण करा सकते हैं. लेकिन एफडी का नवीकरण कराते समय वे अतिरिक्त निवेश नहीं कर सकते हैं.

फिक्सड डिपॉज़िट कैलकुलेटर

क्या आप वरिष्ठ नागरिक हैं ?

कृपया चुनिये

नोटः- 0.25% वार्षिक का अतिरिक्त दर मिलेगा।

क्या आप महिन्द्रा समूह के कर्मचारी हैं ?

कृपया चुनिये

नोटः- 0.35% वार्षिक का अतिरिक्त दर मिलेगा।

कौन सा फिक्सड डिपॉज़िट ऑप्शन चुनेंगे ?

कृपया चुनिये
चुनिये
कृपया चुनिये
अमान्य राशि

आपका ब्याज की राशि है रुपये

डिस्क्लेमर:

प्रयुक्त गणना केवल उदाहरण के उद्देश्य से की गई है। सही जानकारी के लिये अपने नज़दीकी शाखा से संपर्क करें।

Please rotate your IPAD to Landscape Mode.